भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Shiksha Paribhasha Kosh Part-1 (English-Hindi)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

< previous123Next >

narcotics education

स्वापक द्रव्य अध्ययन
मानव शरीर और समाज पर मादक द्रव्यों के गुणों और उनके प्रभाव का अध्ययन और अध्यापन। प्रायः राज्य के शिक्षा विभाग द्वारा इस प्रकार की शिक्षा का प्रबंध और निर्देशन होता है।

nasality

अनुनासिकता
नाक के माध्यम से बोले जाने वाले स्वरों या ऐसी ध्वनियों की बहुलता जैसे न, त्र, ण आदि वर्णों का उच्चारण। यह ध्वनि प्रायः उन व्यक्तियों में अधिक होती है जिनके तालु विदीर्ण होते हैं।

natural education

नैसर्गिक शिक्षा
प्राकृतिक पर्यावरण, परिस्थितियों तथा अनुभवों से स्वतः मिलने वाली शिक्षा। इसमें औपचारिक प्रणालियों का कोई स्थान नहीं है।

natural method

स्वाभाविक प्राणाली
अ- सीखने की स्वाभाविक वृत्ति पर आधारित प्रशिक्षण पद्धति।
आ- विदेशी भाषा सीखने की पद्धति जो इस सिद्धांत पर आधारित हो कि विदेशी भाषा मातृ-भाषा के समान सरलता, स्वाभाविकता और सुबोधता से सीखी जाए। इस पद्धति में प्रशिक्षण विदेशी भाषा में ही वार्तालाप के माध्यम से किया जाता है। व्याकरण यदि सिखाया भी जाता है तो काफ़ी आगे चल कर जब छात्र भाषा के बोलचाल के रूप से भलीभाँति परिचित हो जाता है।

natural punishment

नैसर्गीक दंड
छात्रों को नियंत्रण में रखने के लिए एक ऐसा सिद्धांत या पद्धति जिसमें सीधे किसी कार्य विशेष के परिणाम को आधार बनाया जाता है, कृत्रिम रूप से नियोजित दंड या पुरस्कार को नहीं।

nature study

प्रकृति अध्ययन
पक्षी, पुष्प, मौसम, जलवायु जैसी प्राकृतिक वस्तुओं और घटनाओं का वस्तुपरक अध्ययन। प्राथमिक पाठशालाओं में यह शिक्षण का एक महत्वपूर्ण विषय माना जाता है।

needs theory

आवश्यकता सिद्धांत
अ- एक मान्यता जिसके अनुसार प्रत्येक मानवीय व्यवहार के मूल में किसी न किसी तरह की प्राथमिक अथवा गौण आवश्यकताएँ होती हैं।
आ- एक मान्यता जिसके अनुसार संवेगात्मक आवश्यकताओं की पूर्ति न होने पर आक्रामकता, अधीनता, विनिवर्तिता जैसे मनः शारीरिक अस्वस्थता के संलक्षण उत्पन्न हो जाते हैं।

negative association

निषेधात्मक साहचर्य
एक विशेषक के अभाव अथवा न होने पर दूसरे विशेषक के विद्यमान होने की प्रवृत्ति।

negative character trait

निषेधात्मक चरित्र विशेषक
वे चारित्रिक विशेषक जो वांछनीय विशेषकों के एकदम विपरीत होते हैं।

negative education

नकारात्मक शिक्षा
रूसो द्वारा प्रवर्तित संकल्पना जिसमें निषेधात्मक पक्ष को ध्यान में रखकर शिक्षा दी जाती है, जैसे सद्गुण सिखाने के बजाए व्यक्ति को अवगुणों से बचाना।

neglected child

उपेक्षित बालक
वह बालक जिसके प्रति माता-पिता तथा समाज, आश्रय, मार्गदर्शन अथवा अनुशासन संबंधी सामान्य दायित्वों को न निभाते हों। ऐसा बालक माता-पिता तथा अघ्यापकों के स्नेह से वंचित रहने के कारण अवचारी हो जाता है।

neo-humanisum

नव्यमानवतावाद
वह जीवन दर्शन जिसमें मानवीय प्रकृति, गौरव और रुचिओं को अधिक महत्व दिया जाता हो।

nervous child

अधीर बालक
शारीरिक अथवा मानसिक कारणों से शीघ्र घबरा जाने वाला बालक।

neutral school

धर्म निरपेक्ष विद्यालय
वह विद्यालय, जो किसी धर्म संस्था या धर्म सम्प्रदाय से संबंधित न हो तथा जहां किसी धर्म विशेष की शिक्षा न दी जाती हो।

nominal scale

नामित मापनी
वह मापनी जिसमें एकांशों का केवल दो या उससे अधिक श्रेणियों में वर्गीकरण होता है। इस मापनी में विभिन्न श्रेणियों के बीच उच्चता-निम्नता का भाव नहीं होता और मात्रा या परिमाण की गणना भी नहीं होती।

non-credit class

अगणनीय कक्षा
कक्षा या उस कक्षा में होने वाला कार्य जिसके आधार पर छात्र को कोई डिग्री या डिप्लोमा न दिया जाता हो। विद्यार्थी इस कक्षा में केवल ज्ञान प्राप्त करने के उद्देश्य से जाता है। किसी डिग्री या डिप्लोमा प्राप्त करने के लिए नहीं।

non-directive teaching

अनिदेशात्मक अध्यापन
अध्यापन की वह तकनीक जिसमें स्वतंत्र रूप से निर्णय लेने, बौद्धिक जिज्ञासा, दृढ़ अभिप्रेरण, वस्तुनिष्ठ और व्यक्तिनिष्ठ मूल्यांकन की प्रोत्साहित करने के लिए अध्यापक विद्यार्थी के समक्ष आत्म निर्दिष्ट अधिगम का वातावरण उत्पन्न करता है; अतः विद्यार्थी स्वयं ही उत्तरदायी हो जाता है।

non-experimental factor

अप्रायोगिक कारक
वह कारक जिसे किसी प्रयोग में पूर्व योजना के अनुसार सम्मिलित न किया गया हो, वरन् जो उसमें स्वभावतः ही विद्यमान हो।

non-liner regression

अरैखिक समाश्रयण
वह समाश्रयण जिसमें दो चरों के बीच का संबंध सीधी रेखा से प्रदर्शित न किया जा सके।

non-parametric statistics (=distribution free statistics)

अप्राचल सांख्यिकी
वह सांख्यिकी जिसमें दत्त सामग्री के जनसंख्या वितरण के स्वरूप की कोई पूर्व धारणा नहीं की जाती। यह सांख्यिकी के अनेक प्रकारों में से एक है। सामान्यतः इस प्रणाली का प्रयोग पूर्ववेक्षण शोधों और कम संख्या के प्रायोगिक वर्गों के अध्ययन में किया जाता है।
< previous123Next >
Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App