भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Hindi Paribhashik Laghu Kosh (CHD)

Central Hindi Directorate (CHD)

होटल

(पुं.)

(अं.) 1. एक बड़ा भवन जहाँ दूर से आने वाले यात्री या विशेष प्रयोजनवश स्थानीय संभ्रांत लोग अस्थायी तौर पर किराया देकर रहते हैं। यहाँ निश्‍चित शुल्क देकर भोजन, जलपान आदि की भी सुविधा होती है। 2. यात्री निवास। जैसे: दिल्ली का ‘अशोक होटल’ सुख-सुविधाओं की दृष्‍टि से विशेष प्रसिद्ध है। Hotel

होड़

(स्त्री.) (तद्.)

एक-दूसरे से आगे निकल जाने का प्रयत्‍न। पर्या. प्रतिस्पर्धा या प्रतियोगिता। 2. शर्त।

होड़ा-होड़ी

(स्त्री.) (तद्.)

एक-दूसरे से आगे निकल जाने की प्रतियोगिता की सूचक द्विरुक्‍ति मूलक शब्द। दे. होड़।

होते-होते क्रि.वि.

(वि./अव्य.) (तद्.)

किसी क्रिया या घटना के होते हुए। जैसे: उसका विवाह संस्कार होते-होते सुबह हो गई। टि. एक ही समय में दो क्रियाओं के होने की स्थिति में गौण क्रिया का यह रूप बनता है। जैसे : ‘जाते-जाते’, ‘करते-करते’ आदि। शब्द अव्यय बन जाता है।

होनहार

(वि.) (देश.)

1. जो भविष्य में अवश्य होने वाला हो, जो होकर ही रहे, अवश्यंभावी, भिवतव्य। जैसे: होनहार घटना के बारे में कोई नहीं जानता। 2. अच्छे लक्षणों वाला/जिसमें आगे श्रेष्‍ठ बनने के लक्षण हों। जैसे: 1. होनहार बिरबान के होत चिकने पात। स्त्री. वह बात या घटना जो भविष्य में अवश्य होनी हो। भवितव्यता, होनी।

होना अक्रि.

(तद्.>भवन)

1. किसी वस्तु की सत्‍ता, उपस्थिति आदि को सूचित करने वाली मुख्य क्रिया। जैसे: यहाँ गन्ने की खेती होती है। 2. उत्पन्न होना या जन्म होना। जैसे: गाय के बछड़ा हुआ है। पहला रूप छोडक़र दूसरे या नये रूप में आना। जैसे : पतझड़ में वृक्षों के हरे पत्‍ते पीले हो जाते हैं। किसी कार्य या घटना का प्रत्यक्ष रूप से सामने आना आज उनका आपस में टकराव हो गया।

होनी

(स्त्री.) (देश.)

1. होने की क्रिया या भाव। 2. अवश्य होने वाली बात या घटना, भावी, भवितव्यता। जैसे: जीवन में होनी तो होकर रहेगी। विलो. अनहोनी 3. उत्पत्‍ति, जन्म। उदा. वाल्मीकि नारद घटयोनी। निज निज मुखनि कही निज होनी।

होली

1. फाल्गुन पूर्णिमा को होलिका-दहन वाला त्योहार। 2. होलिका-दहन से अगले दिन (चैत्र कृष्णा प्रतिपदा को) मनाया जाने वाला रंगों का त्योहार।

होश

(पुं.)

(फ़ार.) इंद्रियजन्य संवेदनशीलता का वह गुण जिसमें बुद्धि और शरीर सहज रूप में कार्य करते रहते हैं। पर्या. चेतना। मुहा. होश उड़ना = कष्‍ट, भय आदि में काफी घबराहट बढ़ जाने के कारण सुध-बुध भूल जाना। होश में आना = पुन: चेतना प्राप्‍त कर लेना। होश ठिकाने होना = भ्रम दूर हो जाना; दंड या भय से पछतावा करना।

होशियार

(वि.)

(फ़ार.) जो अपनी आयु के हिसाब से समझने-बूझने लायक हो गया हो।

होशो-हवास (होश और हवास)

(फा.+अर.) (अर.)

होश= 1. ज्ञान कराने वाली मानसिक वृत्‍ति। 2. जीवित रहने का बोध। हवास=देखने, सुनने, चखने आदि की शक्‍तियाँ, पंचज्ञानेंद्रियों, मन की शक्‍तियाँ (कल्पना, विचार, स्मृति) संवेदन की शक्‍ति, सुध। होश-हवास = संज्ञा (चेतना) और बुद् धि, अक्ल और तमीज।

हो-हल्ला

(पुं.)

(अनु.) हो, हो-हो की आवाज। हल्ला = 1. शोर, 2. कोलाहल। हो-हल्ला (द् विरुक्‍ति सूचक शब्द) शोरगुल, हुल्लड़।

हौआ

(पुं.) (देश.)

एक कल्पित प्राणी जिसका नाम लेकर बच्चों को डराया जाता है। जैसे: माँ बच्चे से कहती है-घर के बाहर मत जाओ, नहीं तो वहाँ हौवा आ जायेगा।

हौज़

(पुं.) (अर.)

मुख्यत: नहाने और गौणत: जलक्रीड़ा के लिए बना और चारों ओर से पक्का बँधा पानी का कुंड जैसा जलाशय। 2. मवेशियों के लिए पानी पीने का कुंड, नाँद।

हौदा

(पुं.) (अर.हौद्अ)

पहले राजा-महाराजाओं के परंतु अब सैलानियों के बैठने के लिए हाथी की पीठ पर कसा जाने वाला सजा-सजाया चौखटा।

हौले-हौले क्रि.वि.

(वि.) (अर.)

1. धीरे-धीरे, आहिस्ता आहिस्ता। 2. चुपचाप, बिना शब्द किए।

हौसला

(पुं.) (अर.)

किसी काम को करने का मन में उत्साहपूर्ण साहस। उदा. हौसला बनाए रखोगे तो तुम्हें सफलता अवश्य मिलेगी। मुहा. हौसला पस्त हो जाना= उत्साह और साहस खो देना।

हौसलामंद

(वि.) (अर.)

हौसले वाला। दे. हौसला।

ह्यूमस

(पुं.)

(अं.) मृदा (मिट्टी) में प्राप्‍त होने वाला जैव पदार्थों का अपघटित अंश (जो उसे उपजाऊ बनाता है)।

ह्यूमस

(पुं.)

(अं.) कृषि मृदा में जैव पदार्थ के अपघटन की प्रक्रिया जिससे ह् यूमस बनता है। humusiow
Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App